जिलेवार खबरें

मऊ: पुलिस हिरासत में युवक की संदिग्ध मौत, परिजनों ने किया चक्का जाम, कार्रवाई की मांग

देवेंद्र कुशवाहा
मऊ जिले के घोसी कोतवाली में 8 व 9 सितम्बर की बीती दरम्यानी रात घोसी कोतवाली के पुलिस लाकअप में हुई युवक की संदिग्ध मौत हो गई. मिली जानकारी के अनुसार विगत शनिवार को घोसी क्षेत्राधिकारी श्वेता आशुतोष ओझा बैट्री चोरी के आरोप में ओकेश ऊर्फ़ पप्पू यादव पुत्र रामधारी यादव निवासी तिलई योगेश राजभर निवासी मानिकपुर जमीन हाजीपुर को कोतवाली घोसी लाईं।

उसकी 8/9 सितम्बर की रात मौत हो गई। पुलिस ने चोरी छिपे मृतक का शव जनपद स्थित पोस्टमार्टम हाउस भेज दिया और बाद में परिजनों को इसकी सूचना दी। गांव में ख़बर मिलते ही पूरे क्षेत्र में ये ख़बर जंगल मे आग की तरह फैल गई और लोगों का पुलिस के विरुद्ध आक्रोश फूटने लगा।

आक्रोशित ग्रामीणों ने पीढ़वल मोड़ पर जाम लगाकर घोसी सीओ व घोसी कोतवाल का पुतला फूंका। इस दौरान पीएसी के साथ कई थानों की फोर्स मौके पर मौजूद रही। घण्टों लगे इस भीषण जाम से गोरखपुर वाराणसी राजमार्ग पूरी तरह बाधित रहा। आक्रोशित ग्रामवासियों को अपर पुलिस अधीक्षक शैलेन्द्र कुमार श्रीवास्तव व सीओ सदर राजकुमार ने बहुत समझाने की कोशिश की लेकिन प्रदर्शनकारी अपनी जगह से टस मस नहीं हुए। प्रदर्शनकारी क्षेत्राधिकारी घोसी श्वेता आशुतोष ओझा को निलंबित करने व मुकदमा दर्ज एवं परिवारजनों को मुआवजा की मांग पर अड़े रहे।

सोमवार की शाम लगभग 5 बजे जिलाधिकारी ज्ञान प्रकाश त्रिपाठी व पुलिस अधीक्षक अनुराग आर्य मौके पर पहुँचकर प्रदर्शनकारियो की मांग व परिवार जनो से मिलकर उनकी मांगों को यथासंभव पूरा करने का आश्वासन दिया।प्रदर्शनकारियों की मांग थी कि सीओ व कोतवाल को निलंबित किया जाय, 25 लाख रुपया मुआवजा, परिवार के एक सदस्य को सरकारी नौकरी व योगेश राजभर को तुरन्त रिहा किया जाए। प्रशासन तुरन्त योगेश राजभर को मौके पर उपस्थित कर अन्य मांगों को जल्द पूरा करने का आश्वासन दिया तब कहीं जाकर शाम 6 बजे जाम समाप्त हुआ।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सबसे ज्यादा पढ़ी गई खबर

To Top