चुनाव

लाइसेंसी बंदूक रखने वाले को अब देना होगा हर गोली का हिसाब

देवेंद्र कुशवाहा

कोपागंज मऊ। 10 मार्च को आचार साहिता लगते ही चुनाव के दौरान किसी भी प्रकार की हिंसा उपद्रव पर लगाम लगाने के लिए निर्वाचन आयोग व प्रशासन पूरी तरह मुस्तैद है। अब लाइसेंसी बन्दुक धारको को किसी उत्स्व में हर्ष फायरिंग करना भारी पड़ेगा। हथियार रखने के शौकीन लोगों को एक-एक कारतूस का हिसाब देना होगा। पुलिस स्वयं कारतूसों की जांच कर रही है । यदि एक भी कारतूस का हिसाब गड़बड़ाया, तो लेने के देने पड़ सकते हैं। इसे लेकर क्षेत्राधिकारी घोसी काफी सख्त है।


क्षेत्राधिकारी घोसी नन्दलाल ने बताया की कारतूस विक्रेताओं को निर्देश दिए गए है कि वे अपनी दुकानों पर शासन की गाइड लाइन का पालन करते हुए ही कारतूस बेचें। प्रतिदिन की कारतूस बिक्री का डाटा शस्त्र अनुभाग में रोज उपलब्ध कराया जाए।कारतूस विक्रेता से उपलब्ध आंकड़े को शस्त्र अनुभाग शस्त्र लाइसेंस धारक के संबंधित थाना क्षेत्र को भेजेगा। थाना पुलिस कभी भी किसी का भी औचक निरीक्षण करेगी। यदि खरीदे और उपलब्ध कारतूसों में अंतर मिला, तो उसका जवाब लाइसेंस धारक को देना होगा।

साथ ही संतोषजनक जवाब न मिलने पर कार्रवाई की जाएगी।प्रदेश की कानून व्यवस्था को लेकर चल रही सख्ती में कारतूसों के दुरुपयोग का इनपुट लगातार मिल रहा है। बदमाशों को कारतूसों की उपलब्धता का एक बड़ा माध्यम शस्त्र लाइसेंस धारक भी हैं, जो लाइसेंस के आधार पर कारतूस खरीदकर बदमाशों को देते हैं। वहीं हर्ष फायरिंग आदि के मामले भी सामने आते रहते हैं। इन पर भी लगाम कसेगी।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सबसे ज्यादा पढ़ी गई खबर

To Top