जिलेवार खबरें

नारायणपुर पशु बाजार में उड़ रहीं शासनादेश की धज्जियां

रामबेलास प्रजापति, संतकबीरनगर।

संत कबीरनगर : एक तरफ पूरा देश कोरोना महामारी से जूझ रहा है। बीमारी से निपटने के लिए शासन-प्रशासन लगातार भीड़भाड़ नियंत्रित करने के लिए बाजारों को समय-समय पर लॉकडाउन कर रहा है। बखिरा थाना क्षेत्र के नरायनपुर में लगने वाले पशु बाजार में हजारों पशुओं के साथ देश के कोने-कोने से जुटने वाली भारी भीड़ शासन के आदेशों की धज्जियां उठा रहीं हैं। यहां हजारों की संख्या में लोग गुरुवार को पशु बाजार में पहुंचते हैं तथा पशुओं की खरीदारी करते हैं। यहां फिजिकल डिस्टेंस का खुला उल्लंघन हो रहा है। कोरोना बीमारी के बढ़ते प्रकोप के बीच पशु बाजार लगने के औचित्य पर सवाल खड़ा हो रहा है। चर्चा है कि बाजार मालिक मोटी फीस अदा करके बाजार का संचालन कर रहा है। ————– कई राज्यों के व्यापारी होते है शामिल नरायनपुर पशु बाजार में मध्य प्रदेश, दिल्ली, हरियाणा सहित आगरा, प्रयागराज, लखनऊ, नौतनवा सहित अन्य स्थानों के गाय-भैंस के कारोबारी यहां आते हैं तथा पशुओं के खरीद व बिक्री का कार्य करते हैं। इस समय जनपद में लगने वाले अन्य बाजार बंद चल रहे हैं लेकिन यहां का पशु बाजार चल रहा है। यह किन परिस्थितियों में हो रहा है, इसका जवाब किसी के पास नहीं है। बाजार के दिन लग जाता है भीषण जाम गुरुवार को बाजार में शामिल होने के लिए बड़ी संख्या में चार पहिया वाहन सड़कों पर आवागमन करते हैं। 5 किलोमीटर दूर में फैला पशु बाजार में आने वाले चार पहिया वाहन इससे लोगों को घंटों जाम का झाम झेलना पड़ता है। मेहदावल तहसील क्षेत्र के लोगों को करो ना काम सताने लगा है लेकिन जिम्मेदार अधिकारी मौन होकर बैठे हुए हैं कभी-कभी तो पुलिस को जाम हटवाने के लिए सामने आना पड़ता है। तहसील प्रशासन व बखिरा पुलिस आखिर इन सब समस्याओं पर आंख कैसे बंद किए है यह समझ से परे है। स्थानीय लोग बाजार लगने में मोटी रकम खर्च करने का आरोप लगाते हैं। जिलाधिकारी रवीश गुप्त ने बताया कि पशु बाजार में यदि फिजिकल डिस्टेंसिग का पालन नहीं हो रहा है तो यह गंभीर मामला है। वह स्वयं इस मामले को देखेंगे। वैसे शासन से हर बाजार खुलने का निर्देश है।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सबसे ज्यादा पढ़ी गई खबर

To Top