जिलेवार खबरें

सरकारी अस्पतालों में हुई गर्भवती की जांच


सौरभ पाण्डेय,

सदर सीएचसी पर 85 गर्भवती की हुई जांच, जिसमें नौ उच्च जोखिम गर्भवती मिलीं

प्रधानमंत्री सुरक्षित मातृत्व अभियान के तहत गर्भवती महिलाओं की काउंसिलिंग भी हुयी
महराजगंज। प्रधानमंत्री सुरक्षित मातृत्व अभियान के तहत सोमवार को जिला अस्पताल सहित सभी सामुदायिक व प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों पर गर्भवती महिलाओं की काउंसिलिंग, टीकाकरण व खून पेशाब की जांच की गई।
सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र सदर पर महिला चिकित्सक डाक्टर रोमा गुप्ता द्वारा कुल 85 गर्भवती महिलाओं की जांच हुई, जिसमें नौ गर्भवती उच्च जोखिम की मिली। जिन्हें दवा के साथ आवश्यक सलाह दिया।
उन्होंने कहा कि महिलाएं गर्भवती होने का पता चलते ही निकटतम स्वास्थ्य केन्द्र पर अपना पंजीकरण कराएं।
गर्भवती महिलाओं को प्रसव के पहले चार जांच अवश्य कराना चाहिए। जांच में खून, पेशाब, रक्तचाप, वजन व पेट की जांच जरूरी है।
गर्भावस्था के दौरान दिन में अतिरिक्त भोजन लेना जरूरी है। दूध, दही, छांछ, पनीर , ताजा मौसमी फल, हरी सब्जियां, दाल, चना, गुड़ आदि के साथ आयरन फोलिक एसिड की गोलियां का सेवन करना चाहिए।
वही पर ब्लाक कार्यक्रम प्रबंधक सूर्य प्रताप सिंह की देखरेख में 85 गर्भवती की जांच कराई गई जिसमें 9 उच्च जोखिम की गर्भवती चिन्हित की गई। जिन्हे दवा के साथ विशेष सावधानी बरतने की सलाह दी गई।
जांच कराने आई गर्भवती महिलाओं में ग्राम गिदहा की प्रियंका व करमहा निवासी सुमित्रा ने बताया कि टीका लग गया है। खानपान के बारें में जो जानकारी दी गई उसपर अमल किया जा रहा है।
वहीं पर ग्राम बेलवा काजी से आई हेमंती व अंगीरा ने बताया कि टीका लगाने के साथ साथ खून पेशाब की भी जांच हो गई है। ग्राम पंचायत सवना की रहने वाली पूनम व रिस्ता, ग्राम चिउरहा वार्ड की शाहिबा खातून ने बताया कि जांच हो जाने से अब चिंता दूर हो गई है।
ग्राम बरवाराजा के रहने वाली नीलम व अंजनी, ग्राम पचरूखिया की जया पाण्डेय, लखिमा थरूआ की आशा, बांसपार की मरियम ने कहा कि जांच कराने से समय समय पर चिकित्सकों से सलाह मिल जाती है।
सदर सीएचसी पर गर्भवती के खून, पेशाब,की जांच लैब टेक्नीशियन राकेश कुमार त्रिपाठी ने किया। इस दौरान गर्भवती की जांच कराने में एएनएम प्रियंका, परमीना व नीलम यादव ने विशेष सहयोग किया।
जिला अस्पताल के मुख्य चिकित्सा अधीक्षक डाक्टर आरबी राम ने कहा कि महिला अस्पताल में कुल 92 गर्भवती की जांच हुई जिहमें 33 उच्च जोखिम की गर्भवती पाई गईं ।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सबसे ज्यादा पढ़ी गई खबर

To Top