चंदौली

चंदौली : पिता की मौत की जांच को बेटी ने चंदौली प्रशासन से लगाई गुहार, मामले में लीपापोती का आरोप


ओ पी श्रीवास्तव, चंदौली

जनपद चंदौली के कंदवा थाना क्षेत्र अंतर्गत अमड़ा गांव निवासी शिक्षामित्र बलबीर सिंह की 22 जुलाई को देर रात्रि में संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई थी। घटना की सुबह पत्नी छाया सिंह द्वारा बीमारी के चलते मौत की तहरीर कंदवा थाने में दर्ज कराई थी। लेकिन इसी बीच बलबीर की हैंडराइटिंग में लिखी पत्र के वायरल होने पर मामले की संदिग्धता उजागर हुई। दिल्ली में सिविल सर्विसेज की तैयारी कर रही बेटी प्रांजल सिंह ने एसपी को आनलाइन शिकायत दर्ज करा मामले की जांच व दोषियों के खिलाफ सजा की मांग की है।

मामले पर एक नजर….

कंदवा थाना क्षेत्र के अमड़ा गांव निवासी शिक्षामित्र बलबीर सिंह की मौत 22 जुलाई ’20 को उनके घर पर संदिग्ध परिस्थितियों में हुई थी। रसूखदार परिजनों के दबाव के कारण मौके पर पहुंची कंदवा पुलिस को पत्नी छाया सिंह ने तहरीर दर्ज कराते हुए बीमारी से मौत होने का हवाला दिया। हालांकि मामले में नया मोड़ तब आया जब बलबीर द्वारा अपने भाइयों की शारीरिक व मानसिक प्रताड़ना देने वाले कथ्य का उल्लेख करता पत्र जब वायरल हुआ। वहीं पिता की मौत की खबर सुनकर अमड़ा गांव पहुंची बेटी प्रांजल सिंह ने संदिग्ध परिस्थितियों में पिता की मौत पर पड़े पर्दे की सच्चाई का पर्दाफाश करने की गुहार लगाती कंदवा थाने से लगायत एसपी कार्यालय तक जा पहुंची। लेकिन अभी तक सिर्फ पोस्टमार्टम का हवाला और जांच का आश्वासन देकर बेटी को बरगलाया जा रहा है।

बेटी का आरोप

घटना के पश्चात 23 जुलाई को अपने गांव अमड़ा पहुंची बेटी प्रांजल सिंह ने बताया कि उसके पिता बलबीर सिंह की मौत बीमारी की वजह से नहीं हुई है। उसके पिता को परिवार के कतिपय लोगों द्वारा शारिरिक एवं मानसिक रूप से प्रताड़ित कर रहे थे। उसकी माँ छाया सिंह पर इन्हीं लोगों ने दबाव बनाकर बीमारी की वजह से मौत होने का कारण तहरीर में दर्ज करवाया था। उसने बताया कि मामले का पर्दाफाश करने को कंदवा थाना से लेकर एसपी हेमंत कुटियाल तक गुहार लगा चुकी है। लेकिन अभी तक आश्वासनों के सिवाय कुछ हासिल नहीं हुआ। लगता है रसूखदार लोगों के आगे प्रशासन बौनी हो गई है। बेटी का इंसाफ के लिए आवाज उठाना भी महंगा पड़ सकता है, इसलिए बेटी ने अपनी और मां की सुरक्षा की मांग भी उठाई है।
इस बाबत कन्दवा थाना प्रभारी अशोक मिश्रा का कहना है कि शव के पोस्टमार्टम से हत्या के कारण का पता नहीं चल सका है।लखनऊ बिसरा जांच के लिए भेजी गई है। लेकिन कोरोना महामारी की वजह से बिसरा जांच नहीं हो पा रहा है। हालांकि बिसरा को सुरक्षित रख दिया गया है। बिसरा की जांच के बाद ही आगे कार्रवाई की जाएगी।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सबसे ज्यादा पढ़ी गई खबर

To Top